What is Vipassana Meditation in Hindi: विपश्यना ध्यान के 11 चमत्कारी लाभ

What is Vipassana Meditation in Hindi शरीर और मन दोनों के स्वास्थ्य को संतुलित रखने का सबसे आसान तरीका Meditation अर्थात ध्यान है। सदियों से हमारे ऋषि मुनियों ने ध्यान की कई विधियों का आविष्कार किया और हमारे लिए मानों स्वास्थ्य का खजाना छोड़ गए।

ध्यान क्या है इसे कैसे करते हैं तथा इसके लाभ क्या है इसके बारे में मैंने पहले ही विस्तार में लिखा है। आप लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं।

Meditation Meaning in Hindi: 20 Practical Reasons to Practice ध्यान योग

इस आर्टिकल में मैं आपके साथ ध्यान की एक विश्व प्रचलित तथा महात्मा बुद्ध द्वारा शोधित ध्यान विधि के बारे में विस्तार में जानेंगे। जिसे दुनिया Vipassana Meditation विपश्यना ध्यान के नाम से जानती है।

कुछ सालों पहले जब मैं ध्यान की विविध विधियों को सीख रही थी, १० दिनों के लिए Vipassana Meditation का कोर्स किया। इस पोस्ट में मैं अपने अनुभव के साथ इसके बारे में विस्तार से अपना ज्ञान साझा करूंगी।

Buddha Meditation Technique in Hindi/ What is Vipassana Meditation in Hindi

What is Vipassana meditation in Hindi/ Gautam Buddha Image

महात्मा बुद्ध के ध्यान विधि में भी कई लेवल हैं किन्तु शुरूवात दस दिन के Vipassana Meditation से होती है।

ध्यान के बारे में गहराई में जाने से पहले जानते हैं कि इसका नाम Vipassana Meditation क्यों है?

What is Vipassana meditation in Hindi/ Vipassana meaning in Hindi vipassana in Hindi

ज्ञात हो कि महात्मा बुद्ध का ज्ञान पूर्व में पा लि भाषा में ही उपलब्ध था। समय के साथ इसे अन्य भाषाओं में अनुवादित किया गया।

Vipassana इसे संस्कृत में विपश्यना तथा पालि में विपस्सना कहते हैं। यह तीन शब्दों से मिलकर बना है वि+ पश्य+ ना जिसका अर्थ है विशेष प्रकार से देखना। दूसरों शब्दों में कहूं तो साक्षी होकर देखना

Vipassana Meditation कैसे किया जाता है, विधि जानने के बाद इसका अर्थ आप आसानी से समझ जायेंगे।

History of Vipassana Meditation in Hindi/ विपश्यना ध्यान का इतिहास

हां यह सच है कि आज से करीब २५०० साल पहले इस ध्यान का आविष्कार महात्मा बुद्ध ने किया था। अपने इसी विधि के प्रयोग से उन्होंने ना सिर्फ बीमारियों का इलाज़ किया बल्कि क्रूर मानसिकता को भी बदल दिया।

अंगुलिमाल जैसे डाकू के साथ साथ उस समय समाज में फैली अन्य बुराइयों का भी विनाश अहिंसा तथा अपने योग बल से किया।

किन्तु समय के साथ यह विधि लुप्त होती चली गई।

Vipassaya Meditation and Guru S. N. Goyanka

राजस्थान के उच्च व्यावसायिक घराने में जन्में एस. एन. गोयंका जी को एक गंभीर बीमारी जिसे आज हम मायग्रेन के नाम से जानते हैं, ने पकड़ लिया। भारत में हर प्रकार का इलाज करके थक गए किन्तु लाभ नहीं हुआ।

अंत में विदेशों में जहां भी लोगों ने इलाज के लिए सलाह दिया ये है उस जगह गए। उन्हें स्थाई लाभ तो नहीं हुआ बल्कि दवाइयों के। साइड इफेक्ट का प्रभाव होने लगा।

इतने समय से हर संभव प्रायस कर गोयंका सर हतोत्साहित हो गए तथा इसे ही अपनी तक़दीर मान ली।
उन्हीं दिनों उनके किसी मित्र ने उन्हें सलाह दी कि बर्मा में एक गुरुजी हैं जो कोई दवा तो नहीं देते किन्तु विशेष ध्यान की विधि से बीमारियों को ठीक होते सुना है।

What is Vipassana meditation in Hindi and Guru Goyanka ji

उन दिनों नेहरू जी की सरकार थी किन्तु बर्मा और भारत के रिश्ते कुछ ठीक नहीं थे। थके हारे गोयंका जी ने एक आखिरी मौका लेना मुनासिब समझा। उन्होंने नेहरू जी से विनती कर अनुमति मांगी और बर्मा चले गए।

वहां पर गुरु शिष्य परम्परा के तहत यह ज्ञान मात्र कुछ लोगों में चला आ रहा था। इन्होंने ध्यान का अभ्यास करना शुरू किया, कुछ ही दिनों में इनका सारा दर्द गायब हो गया और उन्होंने नवजीवन प्राप्त किया। वहीं रहकर उन्होंने गुरु की सेवा में समय बिताना मुनासिब समझा।

कुछ समय उनकी माताजी के बीमार होने की खबर सुनकर गोयंका सर वापस भारत आ गए। यहां आकर सबसे पहले उन्होंने अपने घर के सभी सदस्यों को vipassana का कोर्स करवाया। परिणाम में उनकी माताजी ठीक हो गईं और चारों तरफ चर्चा होने लगी।

ज्ञान का प्रचार करने के लिए उन्होंने दस दिन का शिविर लगाकर लोगों को vipassana करवाना शुरू किया। लोगों की बीमारियां ठीक होने लगी, समाज से हिंसा कम होने लगी। इस तरह समय के साथ अलग अलग जगहों पर vipassana center शुरू किए गए।

आज दुनिया के हर कोने में vipassana center है तथा लाखों लोगों के जीवन में परिवर्तन आया है।

विपश्यना के कोर्स की खास बात यह है कि वहां आपको दस दिन सिर्फ और सिर्फ ज्ञान लेना तथा ध्यान करना है।

What is Vipassana meditation in Hindi and Rules Of Vipassana Center

नियम कड़े हैं किन्तु नए साधकों के लिए अच्छे हैं। अन्य ध्यान का परिणाम इसलिए देर से मिलता है क्योंकि नियमों के पालन में सख्ती नहीं बरती जाती। Vipassana meditation के पहले ही दिन आपको नियमों के बारे में बता दिया जाता है जो कुछ इस प्रकार हैं।

१- ब्रह्मचर्य का सख्ती से पालन करना है। विचारों में भी काम के खयाल नहीं आने देना है। यही वजह है कि पुरुषों तथा महिलाओं के निवास स्थान बिल्कुल विपरीत दिशा में होते हैं।

२- पूर्ण मौन का अभ्यास करना है। यदि आपको ध्यान की तीव्रता को महसूस करना है तो मौन आवश्यक है। ज़रूरत पड़ने पर आप सिर्फ धम्म सेवक अथवा धम्मा सेविका से बात कर सकते हैं।

३- अन्य किसी ध्यान, व्यायाम अथवा रेकी का अभ्यास नहीं करना है। ऐसा इसलिए है ताकि आप vipassana meditation के प्रभाव को समझ सकें।

४- किसी भी प्रकार की पुस्तक अर्थात पढ़ने लिखने का काम नहीं करना है। ना ही किसी से बाहर की दुनिया के बारे में बात करनी है। यही वजह है कि पहले ही दिन आपका फोन जमा कर लिया जाता है।

५- रात्रि भोजन नहीं उपलब्ध है। शाम के चाय के साथ नाश्ता उपलब्ध होता है। नियमनुसार भोजन को भरपेट नहीं बल्कि जीने के लिए खाना है। इसके पीछे की वजह सिर्फ इतनी है कि पर भरा होने पर आप आराम से बैठ नहीं पाएंगे तथा आपको सुस्ती भी आएगी।

[ बीमारी अथवा गंभीर समस्या की स्थिति में आपके लिए रात्रि भोजन उपलब्ध कराया जा सकता है]
यदि आपके विपश्यना ध्यान का फ़ायदा लेना चाहते हैं तो पंचशील नियमों का सख्ती से पालन करना होगा जो निम्न हैं –

१- सत्य बोलना
२- अहिंसा का अभ्यास
३- अस्तेय अर्थात किसी भी प्रकार की चोरी नहीं करनी है।
४- मन वचन कर्म से पवित्रता का पालन
५- किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना

What is Vipassana meditation in Hindi/ Vipassana meditation Center

What is Vipassana meditation in Hindi/ Vipassana Meditation Center

विपश्यना मेडिटेशन सेंटर वह जगह है जो दुनिया के हर देश में अलग अलग शहरों में वहां के लोगों की सुविधा के लिए बनाया गया ध्यान केंद्र है।

संसार के ९४ देशों में कुल मिलाकर २३५ से भी अधिक विपश्यना ध्यान केंद्र हैं। जिसमें से सिर्फ एशियाई देशों में१४७ से अधिक तथा पूरे भारत में ८८ से अधिक विपश्यना ध्यान केंद्र हैं।

Vipassana Course Schedule विपश्यना ध्यान केंद्र की समय सारणी

केंद्र पर सुबह चार बजे अर्थात ब्रह्मा मुहूर्त से ध्यान का अभ्यास शुरू होता है। ब्रह्मा मुहूर्त संबंधी विशेष बातों को विस्तार में जानने के लिए नीचे लिंक पर जाकर पढ़ें।

नीचे दी हुई समय सारणी के हिसाब से दुनिया के हर केंद्र पर ध्यान का अभ्यास किया जाता है।

सुबह ४:०० जागरण
४:३०AM  से ६:३० AM तक हॉल में सामूहिक ध्यान
६:३०AM  से ७:१५ नाश्ता
७:१५AM  से ८:००AM विश्राम के लिए समय
८:००AM  से ९:००AM तक हॉल में सामूहिक ध्यान
९:००AM  से १०AM तक हाल में सामूहिक ध्यान
१०:००AM से ११:०० AM कक्ष या हाल में सामूहिक ध्यान (शिक्षक के कहे अनुसार)
११:००AM से १२:००PM भोजन समय
१२:००PM से १:०० PM विश्राम
१:००PM  से २:३० सामूहिक अथवा कक्ष में ध्यान
२:३०PM  से ३:३०PM तक हाल में सामूहिक ध्यान
३:३० PM से ५:००PM तक हॉल अथवा कमरे में ध्यान (शिक्षक के आदेश अनुसार)
५:००PM से ६:०० PM शाम की चाय तथा नाश्ता
६:००PM से ७:०० PM हॉल में सामूहिक ध्यान
७:००PM से ८:१५PM TEACHING
८:१५ PM से ९:००PM तक हॉल में सामूहिक ध्यान
९:००PM से ९:३०PM तक सवाल- जवाब
९:३०PM सोने का समय
नोट: हर एक घंटे के ध्यान के पश्चात ५ मिनट का ब्रेक दिया जाता है।

Vipassana Guided Meditation In Hindi/ Vipassana Meditation Technique in Hindi

मैं सभी को हमेशा एक बात का सुझाव देती हूं, किसी भी ध्यान की शुरुआत गुरु के गाइडेंस में ही करें।

What is Vipassana Meditation in Hindi शुरू के दिन महत्वपूर्ण होते हैं, इसमें यदि concept अच्छे से Clear हो गया तो आगे आसानी हो जाती है।
Vipassana technique में सांसों से शुरु कर धयान को शरीर के प्रतीक अंग से गुजरने के बाद अनंत में विलीन होने का एहसास होता है।

यदि आपने पहले से कोई कोर्स किया है तो आपके लिए short में प्रक्रिया नीचे दोहरा देती हूं। नए लोगों को यही सुझाव रहेगा कि पूर्ण अनुभव के लिए एक बार दस दिन का कोर्स ज़रूर करें।

Also Read: Meditation Benefits for Brain in Hindi: 7 Amazing Benefits to Boost Your Life

Vipassana Meditation Kaise kare in Hindi / Vipassana Meditation for Beginners

१- What is Vipassana Meditation in Hindi पहले ध्यान की मुद्रा में बैठ जाएं तथा सांसों पर ध्यान दें। नासिक के आस पास अपने ध्यान को केंद्रित करें तथा महसूस करने की कोशिश करें कि सांसों के आवागमन के साथ कहीं कुछ अनुभव हो रहा है! उदाहरण के लिए ठंडा या गरम महसूस होना, सनसनाहट या सुरसुराहट का महसूस होना अथवा खुजली आना।

२- Most Importantly, आपको सिर्फ इन बातों को देखना है, इन पर कोई प्रतिक्रिया नहीं करनी है। उदाहरण के लिए यदि खुजली का एहसास हुआ तो मात्र देखना है कि यह एहसास कितनी देर तक होता है। कुछ ही देर में ये sensation बदल जाते हैं।

३- What is Vipassana Meditation in Hindi इसी तरह शरीर के एक एक अंगों अर्थात सिर से लेकर पांव तक ध्यान को ले जाना है। Sensation को महसूस करना है, बिना कोई प्रतिक्रिया किए ध्यान को वहां से हटाकर दूसरे अंग पर ले जाना है।
इस प्रकार आप अपने समयानुसार सुनिश्चित कर सकते हैं कि कितनी देर तक आपको कहां पर ध्यान देना है।

What is Vipassana meditation in Hindi/ Vipassana meditation Benefits
विपश्यना ध्यान से होने वाले फ़ायदे

१- जागरूकता का बढ़ना

विपश्यना ध्यान के अभ्यास से स्वयं के प्रति तथा अपने विचारों यहां तक कि शरीर पर हो रही क्रियाओं के प्रति जागरूकता बढ़ जाती है।

उदाहरण के लिए यदि आप गौर करेंगे तो दिन में ७०-८० प्रतिशत बेकार की या पुरानी बातों में मन में विचार चलता रहता है।। विपश्यना ध्यान के अभ्यास से आपकी जागरूकता इतना बढ़ जाती है कि विचार शुरू होते ही आपको समझ में आ जाता है कि ये व्यर्थ विचार है। आप उस विचार को बदल किसी समर्थ विचार के बारे में सोचने लगते हैं।

२-Vipassana meditation Benefits अनित्य का आभास

Most Importantly, विपश्यना ध्यान हमें गीता में लिखी एक बात का गहराई से आभास करता है “ना तुम कुछ लेकर आए थे, ना कुछ लेकर जाओगे, क्यों व्यर्थ चिंता करते हो!”

अनित्य अर्थात कुछ भी स्थाई नहीं है। सब कुछ अगले ही पल में बदल जाता है। अतः वर्तमान में जीना ही जीवन का उद्देश्य मात्र है। जब शरीर पर हो रहे सेंसेशन के प्रति आप कुछ। क्रिया नहीं करते तो वे समाप्त हो जाती है, इस बात का सूचक है कि कुछ भी स्थाई नहीं है।

३- सहनशक्ति में वृद्धि

किसी भी सेंसेशन के प्रति प्रतिक्रिया ना देने से हमारी सहनशक्ति बढ़ने लगती है। दस दिन पूरा होते होते तो आपको एहसास होता है कि कुछ हो रहा है किन्तु आदतन आप उसे साक्षी होकर देखते हैं। प्रतिक्रिया नहीं देते।

जीवन में कई बार हम परिस्थितियों के अधीन होकर कई ऐसे कदम उठा लेते हैं जिसके लिए आजीवन पछताते है। विपश्यना साक्षी भाव से देखना सीखने के साथ सहनशक्ति में भी बढ़ावा करता है।

४- Vipassana meditation Benefits स्वयं से जुड़ाव

दस दिन तक मौन का अभ्यास आपको स्वयं के बारे में इतना कुछ बताता है जितना अभी तक अपने जाना नहीं है। मौन के दूसरे या तीसरे दिन से ही आपको इस बात का एहसास होने लगता है कि को यहां नहीं है इस समय उसके बारे में सोचना बेकार है।

आप स्वयं की भावनाओं, चाहतों तथा कर्मों पर गहराई से चिंतन करने लगते हैं। In other Words, आप अपने ही कर्मों के जज बन जाते हैं। परिणामस्वरूप आप दस दिन बाद एक बेहतर इन्सान बनकर बाहर निकलते हैं।

५- अनावश्यक बातों से मुक्ति

अक्सर हम जिन बातों से हमें कोई लाभ नहीं होता उसके बारे में सोचकर अपना समय बरबाद करते हैं। सिर्फ समय ही नहीं मन भी खराब कर लेते हैं।

Vipassana Meditation और मौन के अभ्यास द्वारा आपको अपने विचारों के प्रति जागरूकता बढ़ जाती है। आप सही गलत का चुनाव कर व्यर्थ की बातों से आसानी से मुक्ति पा लेते हैं।

जहां व्यर्थ नहीं होता वहां जीवन अत्यंत सुंदर तथा सुखद होता है। यह बिल्कुल उसी प्रकार है जैसे कि घर में यदि बेकार की चीजें भरी रहें तो घर गन्दा रहता है। आपका मन भी आपका घर है जहां आप हर समय रहते हैं।

६- वर्तमान का महत्व समझना

कई बार हम भूत या भविष्य के विचारों में इतना खो जाते हैं कि वर्तमान में हो रही अनेक सुखद अनुभवों से वंचित रह जाते हैं। विपश्यना ध्यान के कुछ दिनों के अभ्यास के बाद ही आप चाहकर भी वर्तमान से अपना ध्यान हटा नहीं पाते हैं।

ध्यान मस्तिष्क के उलझे हुए तारों को सुलझा देता है, जिससे विचारों की जकड़ टूट जाती हैं। और आपको वर्तमान में जीने की आदत हो जाती है।

७- Vipassana meditation Benefits चीजों को पकड़ के ना रखना सीखना

कई बार पिछली बातों को लेकर मनुष्य सारा जीवन दुखी रहता है। काश ऐसा हुआ होता तो आज ऐसा होता या काश ऐसा नहीं हुआ होता तो ये नहीं होता इत्यादि।

विपश्यना ध्यान हमें इस बात का आभास करवाता है कि चीजें जैसे होनी थी वैसी ही हुई। आपके सोचने से कुछ बदलने वाला नहीं है, अतः पुरानी बातों को छोड़ आगे बढ़ना समझदारी है।

८- बीमारियों से मुक्ति

यदि किसी प्रकार की छोटी मोटी बीमारी के साथ आप इस ध्यान का अभ्यास करते हैं तो आपको दस दिन में ही आराम हो जाता है। उदाहरण के तौर पर माइग्रेन, बदन दर्द, घुटनों का दर्द, बैठने में परेशानी या अन्य किसी प्रकार का दर्द।

कहते हैं कि जहां आपका ध्यान जाता है ऊर्जा का बहाव उस तरफ़ ज्यादा होता है। बीमारियां कुछ और नहीं बल्कि ऊर्जा में अवरोध के कारण उत्तपण होती हैं।

जब आप विपश्यना ध्यान करते समय अपना ध्यान शरीर के विभिन्न अंगों पर ले जाते हैं तो वहां पर ऊर्जा का प्रवाह शुरू हो जाता है। परिणास्वरूप बीमारियां ठीक होने लगती हैं।

९- गहन शांति का अनुभव

यदि आज का इन्सान कुछ सबसे अधिक खोज रहा है तो वह है मानसिक शांति। विपश्यना ध्यान तथा मौन का मिश्रण आपके मस्तिष्क को मन की उन गहराइयों में लेकर जाता है जहां आप गहन शांति का अनुभव करने लगते हैं।

यह अनुभव ही साधकों को हमेशा विपश्यना सेंटर की तरफ़ खींचकर ले जाता है।

Also Read: Peace of Mind Tips in Hindi: 17 Simple Ideas for Health Wealth Happiness

१०- नज़रिए में बदलाव

कभी कभी हम सिर्फ अपने नजरिए से देखने के चक्कर में दूसरों को समझ नहीं पाते हैं। विपश्यना ध्यान हमें सांसारिक परिस्थितियों से ऊपर उठकर देखने की क्षमता प्रदान करता है। परिणामस्वरूप हम किसी भी परिस्थिति के सारे पहलुओं का अवलोकन आसानी से तथा कम समय में ही कर लेते हैं।

इसका जीवन में सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि रिश्तों में कड़वाहट या मन मुटाव नहीं होता।

११- Vipassana meditation Benefits समय का महत्व समझना

What is Vipassana Meditation in Hindi दस दिन स्वयं के साथ समय बिता कर यह समझ में आता है कि जीवन में कितना समय हम बरबाद कर देते हैं। इधर उधर की बातें हमारे जीवन में जिनका कोई महत्व नहीं, जीवन को बहुत प्रभावित करती हैं।
कई बार तो वहीं पर इंसान बाहर आने के बाद अपने समय को कैसे सदुपयोग करेगा इसकी योजना बना लेता है।

What is Vipassana Meditation in Hindi इतने सारे अनुभवों के बाद इंसान दूसरी बार स्वयं खिंचा चला जाता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: