जैसा कि नाम में ही भ्रमर शब्द है। भ्रमर की आवाज निकालकर इस प्रणायाम का अभ्यास लिया जाता है। नियमित रूप से कूच मिनटों के अभ्यास से नाक, कान, गले की भी समस्याएं दूर होती हैं।

भ्रामरी प्राणायाम

कपालभाति प्राणायाम चिंता, अवसाद एवं तनाव को भगाने वाले योगों में से एक योग है। सांसों की इस प्रक्रिया से सम्पूर्ण शरीर प्रभावित होता है। सुबह के समय नियमित रूप से पंद्रह से बीस मिनट लिया गया कपालभाति का अभ्यास दिन भर तनाव रहित एवं ऊर्जावान महसूस कराता है।

अनुलोम विलोम प्राणायाम

अनुलोम विलोम अवसाद मिटने वाला अन्य प्रभावी प्राणायाम है। इस विधि द्वारा नासिका नालियों का बारी बारी से प्रयोग किया जाता है। यह प्रणायाम शरीर के समस्त अंगों में ऊर्जा एवं रक्त का संचार बढ़ाकर व्यक्ति को सक्रिय करता है। मस्तिष्क से तनाव को निकालकर कार्यशीलता बढ़ाता एवं ताज़गी बढ़ाता है।

नाड़ी शोधन मेरा स्वतः का सबसे पसंदीदा प्राणायाम है। मेरा मानना है कि योगियों को लंबी उम्र और। सम्पूर्ण स्वास्थ का कारण नाड़ी शोधन प्रणायाम ही है। इस प्रणायाम में सांसों पर पूर्ण काबू पा लेना ही सबसे जादुई क्रिया है। जिस व्यक्ति ने अपनी सांसें काबू में कर ली, उसका स्वास्थ्य उसके हाथों में होता है।