Sahaj samadhi meditation in Hindi: सहज समाधि ध्यान के 7 unbelievable लाभ

Sahaj Samadhi Meditation in Hindi क्या आपको पता है, ध्यान की अंतिम अवस्था क्या होती है?

समाधि! इसी अवस्था तक जाने के लिए प्राचीन समय में योगियों ने ना जाने कितना समय पहाड़ों तथा गुफाओं में अकेले समय गुजारा। हम और आप तो बहुत ही तकदीर वाले हैं। आज की सदी में सब कुछ मशीनीकरण हो जाने की वजह से जीवन अत्यधिक सरल हो गया है। किन्तु मन की स्थिति कठिन हो गई है।

जहां हर चीज़ का सरलीकरण हो गया है, वहीं गुरुओं के आशीर्वाद तथा उनकी योग साधना से ध्यान की विधियां भी सरल होती गई हैं। ध्यान करने के लिए किसी पर्वत अथवा गुफ़ा में जाने की आवश्यक नहीं। आप घर बैठे हर उस अवस्था को प्राप्त कर सकते हैं जिसे पूर्व काल में प्राप्त करने में सालों लगा जाते थे।

ध्यान अर्थात Meditation जो पहले योगियों तथा गुरुओं की पसंद था अब आम इंसान की ज़रूरत बन चुका है। वातावरण इतनी नकारात्मकता से भर चुका है कि सांसें लेना दूभर हो गया है। ऐसे में यदि आप सुखमय तथा शांतिमय जीवन की कामना करते हैं, तो सबसे आसान तरीका ध्यान है।

Also Read: What is Meditation and its Benefits in Hindi

वैसे तो ध्यान की विविध विधियां हैं किन्तु सहज समाधि योग Sahaj Dhyan विधि अपने आप में अद्भुत है।
इस आर्टिकल में आपको ध्यान की इस विधि के बारे में विस्तार से जानकारी मिलेगी। किन्तु उससे पहले यह समझ लेना आवश्यक है कि सहज समाधि मेडिटेशन क्या है?

What is Sahaj samadhi meditation सहज समाधि ध्यान क्या है?

भाषा के नज़रिए से देखा जाए तो “सहज” का अर्थ सरल अथवा Simple होता है। “समाधि” का अर्थ मन की वह स्थिति है जहां पर सिर्फ किसी अन्य बात, मनुष्य या विचार नहीं होते। बस आप होते हैं।

दूसरे शब्दों में कहूं तो Pure Consciousness ही समाधि Sahaj Dhyan अवस्था है। इस ध्यान का ध्येय अपने चंचल मन को बड़ी ही सरलता से शांत कर समाधि की अवस्था तक ले जाना है।

Why To Do Sahaj Samadhi Meditation

कई सारे लोग मुझसे अक्सर ये सवाल करते हैं कि ध्यान की इतनी सारी विधियां हैं, तो हम सहज समाधि ही क्यों करें?

यहां पर मैं आपको एक वैज्ञानिक रूप से साबित किया हुआ तथा अपना एक अनुभव बताना चाहूंगी।
ध्यान करने वालों को आम व्यक्ति से कम नींद की ज़रूरत पड़ती है। एक साधारण व्यक्ति को स्वस्थ जीवन जीने के लिए ६-८ घंटे के नींद की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर प्रतिदिन ध्यान का अभ्यास करने वाले व्यक्ति की नींद ४-५ घंटों में ही पूरी हो जाती है।

यदि आप गौतम बुद्ध की दिनचर्या देखेंगे तो वे सिर्फ़ ४ घंटे ही सोते थे। इसकी वजह उनकी समाधि अवस्था थी। एक घंटे के ध्यान से मन और शरीर को साधारण रूप से २-३ घंटे की नींद के बराबर आराम मिलता है।
आज की stressful Life से आप भली- भांति परिचित हैं। यदि मन को समय समय पर इस अभ्यास द्वारा आराम मिलता रहा तो आपके काम और सेहत दोनों के लिए अच्छा है। इसलिए इस ध्यान को सभी ने करना चाहिए।

Also Read: Pituitary gland meditation and its benefits in Hindi

How To Do Sahaj Samadhi Meditation

सहज समाधि मेडिटेशन का पूरा लाभ लेने के लिए किसी प्रशिक्षित शिक्षक के guidance में करें। यह ध्यान मंत्रों से सिद्ध विधि है अर्थात इस विधि में mental level पर मंत्र जाप करना है।

मंत्रों का प्रभाव सदियों से सिद्ध हुआ है। यदि मंत्र अभिमंत्रित है तो उसका जीवन पर चमत्कारिक प्रभाव पड़ता है।

यदि आप इसे घर पर करना चाहते हैं तो कुछ बातें ध्यान में रखें।

Sahaj Samadhi Meditation Steps

१- जैसा कि नाम से ही साबित होता है कि यह ध्यान सहजता से होता है। अर्थात आपकी अवस्था सहज होनी चाहिए। इसमें किसी विशेष sitting position की आवश्यकता नहीं है। जो भी पोजिशन आपको आरामदायक लगे उसमें इस ध्यान को कीजिए।

२- सबसे पहले कुछ देर तक गहरी सांस लें तथा सांसों को नाक से आते जाते महसूस करें। इससे शरीर के अंदर का सारा तनाव सांसों द्वारा बाहर आ जाता है। परिणामस्वरूप आपका ध्यान केंद्रित होने में आसानी होती है। हालांकि आपको ध्यान को एक स्थान पर केन्द्रित नहीं करना है। इसलिए सांसों द्वारा आप स्वयं को stress-free तथा वर्तमान में ला लेते हैं।

३- जैसा कि ऊपर आपने देखा Sahaj Samadhi Meditation में आपको ध्यान एक स्थान पर केन्द्रित नहीं बल्कि मंत्र जाप करना है। कम से कम २० मिनट तक इन बीज मंत्रों का मन में जाप करना है।

नोट: शुरू में ध्यान भटकता है किन्तु आपको अपना ध्यान वापस वर्तमान में लाकर मंत्र जाप करना है।

Sahaj Samadhi Meditation Mantra सहज समाधि मेडिटेशन मंत्र

Sahaj Samadhi Meditation Mantra by MysticMind

१- मां सरस्वती के लिए- ओम् Aum

२- मां लक्ष्मी के लिए – श्रीं Shreem

३- मां काली के लिए- क्रीम Kreem

४- मां पार्वती अथवा माहेश्वरी के लिए- हरीम Hreem

५- भगवान श्री कृष्ण अथवा राम के लिए – श्याम Shyaam

अपने उम्र, व्यवसाय अथवा आवश्यकता के अनुसार मंत्रों का चयन करें। सुबह अथवा शाम के समय किसी शांत तथा आरामदायक स्थान पर इस ध्यान का अभ्यास करें।

Also Read: Crown Chakra and it Powers in Hindi

Benefits of Sahaj Samadhi Meditation सहज समाधि ध्यान के लाभ

Benefits of Sahaj Samadhi Meditation

१- मन शांत होने के साथ विचारों में पवित्रता का प्रवाह होता है।

२- सुबह अभ्यास करने वालो को सारा दिन ताज़गी तथा ऊर्जावान अनुभव होता है।

३- विचारों के उलझन समाप्त होकर सही निर्णय लेने की क्षमता बढ़ती है।

४- Sahaj Samadhi Meditation करने वाले अपनी भावनाओं को सही दिशा में आसानी से मोड़ लेते हैं।

५- निरंतर चलने वाले व्यर्थ विचारों में कमी आ जाती है।

६- किसी भी कार्य को कम समय में तथा रचनात्मक तरीके से करने की क्षमता बढ़ जाती है।

७- Sahaj Samadhi Meditation करने वालों की एकाग्रता में जबरदस्त वृद्धि देखा गया है।

Final Words: यदि आप Sajah Samadhi Meditation का अभ्यास करते हैं तो comment करके अपना अनुभव साझा करें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: