Ketu in 7th House Marriage Remedies:केतु से बचने के 9 उपाय

Ketu in 7th House Marriage Remedies in Hindi ज्योतिष शास्त्र और कुंडली मनुष्य के जीवन संबंधी कई भावी समस्याओं के साथ उसके बचाव के भी भिन्न भिन्न रास्ता दिखाते हैं। लाल किताब की मानें तो केतु, राहु की भांति जो खुद एक ग्रह नहीं बल्कि किसी अन्य ग्रह की छाया मात्र है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार छाया ग्रह होने के बावजूद भी कुंडली में इसका होना शुभ अथवा अशुभ परिणाम अवश्य देता है। केतु को अन्य ग्रहों की भांति किसी राशि का स्वामी भी प्राप्त नहीं है किन्तु धनु राशी में यह उच्च जबकि मिथुन राशि में नीच होता है।

MysticMind के इस आर्टिकल में हम What happens when Ketu is in 7th House और Is Ketu in 7th House bad के जवाब के साथ साथ सातवें घर में केतु की उपस्थित के कारण नकारात्मक प्रभावों को कम करने के लिए उपाय भी बताएंगे।

Ketu in 7th House Marriage Remedies के बारे में विस्तार से जानने के पहले यह जान लें कि What does Ketu in 7th House Mean? केतु के सातवें घर में होने का अर्थ क्या है?

What is Ketu is in 7th House?

कुंडली का सातवां घर रिश्ते एवं संबंधों के हालात दर्शाता है। इसी सातवें घर में शादी के साथ साथ प्रेम, दोस्ती, व्यापार आदि गहरे संबंधों का राज़ छिपा रहता है।

सामान्य रूप से सातवां घर बुध तथा शुक्र ग्रह का है। यदि इस घर में केतु लाभ देने वाला हो अर्थात बुध एवं शुक्र का साथ मिले तो व्यक्ति उम्र के चालीस साल तक अत्यधिक धन संपत्ति बनाता है।

What does Ketu in 7th House Mean?

दूसरी ओर यदि सातवें घर में केतु लाभ देने वाला नहीं है तो जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जीवन मनचाहा नहीं होने के साथ कोशिशों के बावजूद भी सरल और खुशहाल नहीं होता।

जिनकी कुंडली के सातवें घर में केतु लाभकारी नहीं है उनके विचार नकारात्मक एवं प्राकृतिक रूप से ऐसे लोग आलोचक होते हैं।

Ketu in 7th House Marriage Remedies उपाय जानने से पहले यह समझना आवश्यक है कि इन्हें रिश्तों में समस्याएं क्यों आती है। जिनकी कुण्डली के सातवें घर में केतु की छवि पड़ती है वे जल्दी विवाह के लिए तैयार नहीं होते।

फलस्वरूप शादियां देर होती है तथा ऐसे लोगों की शादी में भी समस्याएं आती है एवं रिश्तों में भी नकारात्मक प्रभाव देखने के लिए मिलता है।

केतु तामसिक और व्यभिचारी होने के कारण जातक में छल कपट, कुंसंगती एवं गलत कामों में पड़ सकता है।

Also Read: दरिद्र योग से मुक्ति  के सरल उपाय

Remedies Meaning in Hindi

Ketu in 7th House Marriage Remedies जानने से पहले देखते हैं कि Remedies का शाब्दिक अर्थ क्या है?

शाब्दिक अर्थ देखा जाए तो किसी भी समस्या का समाधान अथवा समस्याओं के सुलझाने के विभिन्न उपाय को अंग्रेजी में रेमेडीज कहते हैं।

चलिए अब देखते हैं कि केतु का प्रभाव जिनके विवाह में रुकावट डाल रहा है, इन प्रभावों को कम करने के क्या उपाय हैं।

Ketu in 7th House Marriage Remedies in Hindi

सातवें घर में केतु होने से विवाह संबंधी समस्याओं को सुलझाने के लिए निम्न उपाय करें।

१- कभी किसी के लिए अपशब्दों का प्रयोग ना करें ना ही किसी कर्म से दूसरों को नुकसान पहुंचाएं।

२- Ketu in 7th House Marriage Remedies झूठ बोलने, किसी को धोखा देने अथवा किसी से ऐसा वादा ना करें जिसे पूरा करना मुश्किल हो। बेहतर तो यही होगा कि वादे करने के बजाय आपने अच्छे कर्मों पर विशेष ध्यान दें।

३- गहरे पानी से दूरी बनाएं तथा सुबह पूजा पाठ के बाद केसर का तिलक लाभदायक माना जाता है।

४- Ketu in 7th House Marriage Remedies घर के अन्य सदस्यों जैसे कि माता पिता, दादा दादी, की सेवा कर उनसे आशीर्वाद लेते रहें तथा दूसरों के प्रति स्नेह पूर्ण व्यवहार रखें।

५- केतु के प्रभाव को कम करने के लिए श्री गणेश की पूजा करें तथा मंदिर के बाहर भिखारियों को दान देने से भी प्रभाव कम होता है।

६- Ketu in 7th House Marriage Remedies कभी किसी कुत्ते को गलती से भी ना मारें बल्कि उनका खयाल रखना तथा उन्हें भोजन खिलाना भी केतु का प्रभाव कम करने में मदद करता है।

७- दूसरों का सुनकर बिल्कुल भी कोई फैसला न लें बल्कि स्वयं के साथ समय बिताए तथा सोच विचार कर अपने स्वयं के फैसले लें।

८- Ketu in 7th House Marriage Remedies विवाह संबंधी समस्याओं को दूर करना अथवा केतु के प्रभाव को कम करने के लिए कैट आय अर्थात गोमेद रत्न धारण करें।

९- धार्मिक पुस्तकों का स्वयं वाचन करने के साथ दान करने से भी केतु के प्रभाव को कम किया जा सकता है। साथ ही दिन में कम से कम दस मिनट का समय निकालकर ध्यान लगाएं तथा ध्यान में अपने पूर्व जन्मों में की हुए भूली हुई गलतियों के लिए माफ़ी मांगे।

Ketu in 7th House in Female Horoscope

जिन स्त्रियों की कुंडली के सातवें घर में केतु का प्रभाव नकारात्मक परिणाम देर हो उन्हें नियमित गणेश मंदिर जाकर पूजा अर्चना करना चाहिए।

गणपति अर्चना कर केतु को शांत करने के साथ अपनी कमजोरियां को दूर करने में मदद मिलती है। गणेश जी के गुणों को अपनाकर केतु के नकारात्मक को प्रभाव को कम कर अपने व्यक्तित्व को बेहतर बना सकते हैं।

Ketu in 7th House Spouse Appearance

केतु के नकारात्मक फल देने के कारणऐसे जातक खयाली दुनिया में ही अपना जीवन साथी खोजते रहते हैं। अर्थात वास्तविकता से परे सपनों में ही उनका खयाली साथी बनाते रहते हैं। ऐसा साथी जो वास्तविकता में नहीं होता है।

यदि शादी हो भी गई तो शादी का मनचाहा सुख एवं शांति पूर्ण जीवन नहीं हो पाता है। किन्तु हर समस्या का हाल होता है, इसलिए नीचे दिए गए उपायों को अपनाकर केतु के प्रभाव को कम किया जा सकता है।

इसे भी पढें: Mahamrityunjay Mantra in Hindi

ketu in 7th house love marriage

मुख्यत ऐसे जातक विवाह में रुचि नहीं लेते हैं किन्तु यदि बुद्ध एवं शुक्र का साथ मिलने से प्रेम विवाह हो भी गया तो उसे निभाने में अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

ketu in 7th house past life

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा कि केतु नकारात्मक परिणाम देता है। ये प्रभाव अक्सर pastLife अर्थात पूर्व जन्म के कर्मों के कारण मिलता है। इसलिए यदि नीचे दिए गए उपायों को अपनाकर यदि इस जन्म में अच्छे कर्म किए जाएं तो इसके प्रभाव को अवश्य कम किया जा सकता है।

Saturn and Ketu in 7th House Marriage

यदि सातवें घर में शनि एवं केतु दोनों काप्रभाव है तो परिणाम नकारात्मक बताए जाते हैं। फिर भी निराश होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह भी उतना ही सत्य है कि यदि दूसरे ग्रह कैसे कि बुध एवं शुक्र मजबूत हैं एवं शुभ देने wale हैं तो परिणाम अच्छे होते हैं।

ऐसी कुंडली वाले लोग अक्सर उम्र के २८ साल पूरे होने के बाद विवाह करते हैं।

FAQs

१- How can Ketu effect be reduced? Or How can I satisfy my Ketu?

लाल किताब के अनुसार चांदी से बने बर्तन में शहद रखकर केतु के प्रभाव को कम किया जा सकता है। चांदी से बने एक गेंद को अपने पर्स में रखकर भी केतु के प्रभाव से बचा जा सकता है।

२- Which planet causes delay in marriage?

कुंडली के सातवें घर को जिसे संबंधी घर भी माना जाता है उसमें सूर्य, शनि, राहु और केतु का होना विवाह में देरी का कारण बनते हैं।

३- Can Ketu give marriage?

केतु की महादशा से परेशान लोगों की शादी कभी सरल नहीं होती। किन्तु यदि शुक्र बुध तथा बृहस्पति मजबूत होकर लाभ देते हैं तो संभव होती है। केतु को शांत करने के अन्य उपायों को करके भी उसके प्रभाव को कम किया जा सकता है।

Final Words: यदि आपको पता चल जाता है कि आपके जीवन पर केतु का प्रभाव पड़ रहा है तो स्वयं को शांत रख उपर्युक्त उपाय करें। मन को शांत तथा विचारों को सकारात्मक रखने की कोशिश करें।

Ketu in 7th House Marriage Remedies को अपनाकर विवाह में आ रही दिक्कतों को दूर कर जीवन में खुशियों को आमंत्रित करें।

भवतू सब्बै मंगलम!

Advertisement

Leave a Reply

%d bloggers like this: