kalpavriksha Meditation in Hindi: कल्पवृक्ष ध्यान के 5 चमत्कारी लाभ

kalpavriksha Meditation in Hindi क्या आप को पता है कि आपके संपूर्ण सपने पूरे हो सकते हैं? वे सपने जो आप जागती आंखों, जीवन को बेहतर बनाने के लिए देखते हैं, सच हो सकते हैं।

क्या आप चाहते हैं कि प्रकृति का सबसे प्रभावी तथा महत्वपूर्ण नियम, आकर्षण का नियम आपके लिए शत प्रतिशत काम करे? यदि आपका जवाब हां में है तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़िए।

आपको इस अद्भुत ध्यान की विधि के रूप में वह तिलिस्मी ख़ज़ाना मिल जाएगा जिसका प्रयोग कर आप अपने सारे ख्वाब पूरे कर सकते हैं।

Law of Attraction अर्थात आकर्षण का नियम क्या है तथा इसका प्रयोग कर कैसे अपने सपने पूरे किए जा सकते हैं, यह जानने के लिए नीचे दी गई लिंक पर जाकर विस्तार में पढ़ें।

Law of Attraction in Hindi : 13 Secret Tips For आकर्षण का नियम

इस आर्टिकल में हम ध्यान की एक ऐसी अद्भुत विधि के बारे में जानेंगे जिसे kalpavriksha Meditation अर्थात कल्पवृक्ष ध्यान कहते हैं।

इस ध्यान के बारे में गहराई में जाने से पहले जानते हैं कि कल्पवृक्ष क्या है? ताकि इस ध्यान विधि को आप बेहतर समझ सकें।

kalpavriksha Meditation in Hindi/ What is Kalpavriksha

कल्पवृक्ष क्या है?

हिंदी पुराणों के अनुसार देवताओं तथा असुरों ने अमृत पाने की चाह में समुद्र मंथन किया था। इस समुद्र मंथन के दौरान कई उपयोगी, अनुपयोगी तथा बहुमूल्य वस्तुएं सागर से बाहर निकली। जिनमें से सुप्रसिद्ध कामधेनु भी थीं।

kalpavriksha Meditation/ SamudhraManthan Images
Image Credit: commons.wikimedia.org

कामधेनु की ही भांति कल्पवृक्ष नाम का एक वृक्ष निकला जो इच्छापूर्ति करने वाला पेड़ था। कहते हैं कि देवता लोग इसे स्वर्ग लेकर चले गए। आज भी भारत में यह वृक्ष कल्पवृक्ष, कल्पद्रूम अथवा इच्छापूर्ति करने वाले पेड़ के रूप में प्रसिद्ध तथा उपलब्ध भी है।

What is kalpavriksha Meditation in Hindi कल्पवृक्ष ध्यान क्या है?

कल्पवृक्ष ध्यान दक्षिण भारत के जग प्रसिद्ध योगगुरु जग्गी वासुदेव अर्थात सद्गुरु द्वारा बनाई ध्यान की एक विधि है। ध्यान जब किसी ध्येय के साथ किया जाता है तो अत्यंत प्रभावी सिद्ध होता है।

इस ध्यान का ध्येय स्वयं को, अपने मस्तिष्क को उस कल्पवृक्ष के समान बनाना है जो आपकी हर इच्छा पूर्ति करने में सक्षम है।

यदि आप सोच रहे हैं कि यह कैसे संभव है तो आगे का पैरा ध्यान से पढ़ें।

How to Become a kalpavriksha in Hindi स्वयं कल्पवृक्ष कैसे बनें?

क्या आपको पता है, इस पृथ्वी पर हर साल नई नई चीजों का आविष्कार होता जा रहा है? वे नई चीजें सबसे अद्भुत हैं और जीवन को अधिक आसान बनाती जा रही हैं। आश्चर्य वाली बात तो यह है कि ये चीजें सबसे पहले किसी के दिमाग में आती है। In Other Words, किसी की कल्पना में पहले आती हैं, बाद में साकार होती हैं।

kalpavriksha Meditation/ MysticMInd
Image Credit: https://commons.wikimedia.org

ये लोग मुझसे या आपसे भिन्न नहीं बल्कि हमारे जैसे ही आम इंसान हैं। अंतर सिर्फ इतना है कि हमारा ध्यान ना जाने कितनी बातों में उलझा रहता है और इनका मन सिर्फ़ अपने उद्देश्य अर्थात जीवन में कुछ अनूठा कर गुजरने के सपने को साकार करने में लगा रहता है।

kalpavriksha Meditation in Hindi सपनों और उन सपनों के हकीक़त होने के बीच में इंसान के वे बेकार के विचार हैं जिनका उनके सपनों से कोई लेना देना नहीं। कल्पवृक्ष ध्यान उन बेकार के विचारों से दूर ले जाकर आपके सपनों को मन की गहराई में छोड़ आता है। आपका मन उन सपनों को पूरा करने के लिए आपको रास्ता दिखाने लगता है।

दूसरे शब्दों में कहूं तो आपका मन [अवचेतन मन] खुद एक कल्पवृक्ष है, बस आपको आभास नहीं है। मन की वो शक्तियां जिसे कुण्डलिनी शक्ति के नाम से भी जाना जाता है, अद्भुत शक्ति का स्रोत है। कुंडलिनी शक्ति के बारे में अधिक जानने के लिए नीचे लिंक पर जाकर पढ़ें।

How to Do kalpavriksha Meditation in Hindi कल्पवृक्ष ध्यान कैसे करें?

इस ध्यान को करने की विधि जानने से पहले एक महत्वपूर्ण काम करने की मेरी आपको सलाह है। एक कागज़ और कलम लीजिए और उस पर अपने तीन बड़े सपनों को लिख लीजिए।

kalpavriksha Meditation in Hindi पहला ऐसा सपना जिसे आप ३ से ६ महीने में पूरा करना चाहते हैं। दूसरा सपना वो जिसे आप १ से ३ साल में पूरा करना चाहते हैं तथा तीसरा वह सपना जो आपका भविष्य बन जाए। अर्थात आप पांच साल बाद अपने जीवन के स्तर को किस जगह देखना चाहते हैं, कुछ ऐसा जो आजीवन रहे।

लिखे हुए Goals, ज्यादा प्रभावी होने के साथ जल्दी पूरे होते हैं इसलिए इसे लिखकर अपनी जेब में रख लें।

Also Read: Reiki Meaning in Hindi: 21 Unbelievable Benefits of Reiki Healing

kalpavriksha Meditation Posture कल्पवृक्ष ध्यान आसान

आराम की स्तिथि में बैठ जाएं। कमलासन अथवा कुर्सी पर भी बैठकर आप इस ध्यान को कर सकते हैं। सिर्फ ध्यान रहे कि सिर और पीठ अर्थात रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी हो।

Sadguru kalpavriksha Meditation in Hindi

कल्पवृक्ष ध्यान शुरु करने से से पहले ५-७ लंबी गहरी सांस लें तथा कुछ देर तक रोके रखें। फिर छोड़ दें। इस प्रकार आप स्वयं को पूर्ण रूप से वर्तमान लाएं।

१- kalpavriksha Meditation in Hindi आंखें बंद कर खुद को एक सुंदर बगीचे में देखें। सुबह का वातावरण, चहचहाते पक्षी, पानी का कलरव तथा उगता हुए सूरज की कल्पना करें। अपने पैरों के नीचे की ज़मीन, मखमली घास को महसूस करें।
सूरज की धूप अपने चेहरे पर महसूस करें।

खिले हुए फूलों तथा वातावरण में फैली खुशबू को अपनी कल्पनाओं में महसूस करें। आप पाएंगे कि आपके मन में वही उमंग उत्साह भर रहा है जो वास्तव में उस बगीचे में जाने पर होगा।

२- kalpavriksha Meditation in Hindi पूरे बगीचे में घूमने के बाद स्वयं को ज़मीन से ऊपर उठता हुआ देखें। शरीर के हल्केपन को महसूस करें। धीरे धीरे स्वयं को बगीचे के ऊपर, फिर उस कॉलोनी, फिर शहर के ऊपर देखें।

जितनी ऊंचाई में आप जाते हैं, गौर से देखें कि धरती का वातावरण कैसा दिख रहा है। फ़िर वहां से आगे बढ़ें, आकाश मार्ग से जाते हुए नीचे के वातावरण को देखते चलें। थोड़ी ही देर में एक घना जंगल दिखाई देगा।

जंगल के बीचो बीच एक झोपड़ी देखें। ऊंचाई से भी वह इतनी आकर्षित दिखी कि आप नीचे उतरने लगे। धीरे धीरे नीचे उतरे। ज़मीन को महसूस करें, चारों तरफ़ फैली गहन शांति को महसूस करें स्वयं को।

kalpavriksha Meditation in Hindi

३- kalpavriksha Meditation in Hindi आप उस झोपडी की सादगी, सुंदरता और शांति से इतने प्रभावित हैं कि अपने कदमों को रोक नहीं पाते। धीरे धीरे अपने आपको अंदर प्रवेश करता हुआ देखें।

भीतर एक दीपक जल रहा है और पास में ही आपके गुरू, ईश्वर ध्यान मग्न बैठे हैं। स्वयं को उन्हें प्रणाम करते हुए सामने बैठते हुए देखें।

अब अपने उन सपनों को, जो अपने ऊपर एक दो तीन क्रमांक में लिखा है, उसे अपने इष्टदेव के सामने रख दें या बोल दें। “तथास्तु” के साथ अपने सिर पर आशीर्वाद के हाथ को महसूस करें।

४- kalpavriksha Meditation in Hindi अब अपनी आंखो के सामने उन सपनों को पूरा होता हुआ देखें। पहला सपना पूरा होने पर कैसा लगा उसका अनुभव करें। ठीक इसी प्रकार दूसरा एवं तीसरा पूरा होने पर जीवन कैसा दिख रहा है, गौर से देखें। और उन भावनाओं को महसूस करें कि आपको कितनी खुशी हो रही है।

जितनी भी देर उस भावनाओं को महसूस करने का में करे, उन पलों को जीने का म मन करे उसी अवस्था में रहें। फिर उठकर अपने इष्टदेव/ गुरू को प्रणाम करें, उन्हें धन्यवाद दें और विदा लें।

५- kalpavriksha Meditation in Hindi जिस प्रकार स्वयं को आकाश मार्ग से जाते हुए देखा था, ठीक उसी प्रकार स्वयं को, वापस बगीचे में लाएं। धीरे- धीरे नीचे उतरे, ज़मीन पर बिछी घास का अनुभव करें।

चेतना को वापस उस स्थान पर लाएं जहां आप बैठे हैं और आराम से आंखें खोलें। ध्यान रहे, आंखें खुलने के बाद भी उस आभास को याद रखें जो आपको अपने पूर्ण सपनों को देखकर हुआ रहा।

नोट: इस ध्यान का परिणाम पाने के लिए कम से कम २१ दिन तक सुबह एक बार अवश्य करने। बेहतर होगा यदि आप सुबह उठने के बाद तथा रात को सोने से पहले करें। यदि दो बार नहीं संभव हो तो एक बार अवश्य करें।

Also Read: Subconscious Mind in Hindi: 7 Easy Ways to Activate Its Power

Benefits of kalpavriksha Meditation in Hindi कल्पवृक्ष ध्यान के लाभ

जैसा कि अपने ऊपर पढ़ा इस ध्यान का ध्येय ही आपको स्वयं को कल्प वृक्ष के समान फलदाई बनाना है। यदि आप कुछ दिन तक इस ध्यान को प्रतिदिन करते हैं तो इसके अनेक लाभ होते हैं।

१- सबसे पहला लाभ यह होता है कि आपकी रचनात्मकता बढ़ जाती है। कल्पवृक्ष ध्यान दाहिने तथा बाएं दोनों मस्तिष्क को सक्रिय करने में मदद करता है।

२- कल्पनाशक्ति मजबूत होती है। जैसा कि हमने ऊपर देखा किसी भी चीज़ की शुरुआत पहले कल्पना में होती है। कल्पवृक्ष ध्यान के अभ्यास से किसी भी काम को करने के भिन्न भिन्न तथा रचनात्मक रास्ते दिखने लगते हैं।

kalpavriksha Meditation in Hindi

३- आत्मविश्वास में जबरदस्त बढ़ोत्तरी होती है। जिन लोगों में आत्मविश्वास की कमी है या उन्हें लगता है कि उनके सपने कभी पूर्ण नहीं हो सकते। उनका स्वयं में विश्वास बढ़ता है क्योंकि जो बीज वो अपने मस्तिष्क में एक बार डालते हैं उसे प्रतिदिन अभ्यास द्वारा सिंचित भी स्वयं करते हैं।

४- मन शांत होने के साथ उन सपनों को साकार करने के सही तथा सटीक रास्ते दिखाने लगता है। परिणामस्वरूप आपकी Clarity बढ़ जाती है।

५- कुछ दिनों के निरंतर अभ्यास से जीवन को दिशा मिल जाती है। जीवन का लक्ष्य Clear हो जाता है। मन में विश्वास, आस्था बढ़ती है, जो जीवन को सरल तथा हृदय को कृतज्ञ बनाकर इंसान को Humble बनाती है।

Kalpavriksha Meditation Experience कल्पवृक्ष ध्यान का मेरा अनुभव

कुछ दिनों पहले जब मैं नौकरी छोड़कर समझ नहीं पा रही थी कि क्या करूं? किस दिशा में काम करूं जो मन को संतुष्टि देने के साथ जीवन को दिशा भी दे। लिखना तो पसंद था, किन्तु खाली समय में।

मैंने स्वयं को दिशा देने के उद्देश्य से इस ध्यान को करने का निर्णय लिया। अपने तीन सपनों में एक लिखने का भी सपना जोड़ दिया, क्योंकि मुझे अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना अच्छा लगता है।
मुझे पता ही नहीं चला कि कैसे मैंने २१ दिन के अंदर ही इस ब्लॉग को शुरू कर दिया। कोई सोच विचार नहीं, बस शुरू कर दिया।

kalpavriksha Meditation and My Experience स्वयं को व्यस्त रखने के लिए बस लिख लिया करती थी, सोचा इसी तरह कम से कम व्यस्त रहूंगी। ध्यान का अभ्यास सुबह करके अपनी दिनचर्या में व्यस्त हो जाया करती थी।

मैं किसी भी ध्यान का अभ्यास शुरू करने से पहले लक्ष्य ज़रूर बनाती हूं। क्योंकि मुझे पता है, यह काम करता है और दिशाहीन जीवन। से बेहतर है कि जीवन को दिशा दी जाए।

kalpavriksha Meditation and My Experience आज मेरा यह ब्लॉग काफ़ी सफल हो चुका है। हजारों लोग इसे पढ़कर अपने जवाब पाते हैं, यही तो मैं चाहती थी। किन्तु इस बात का आभास मुझे दो महीने बाद हुआ इसलिए सोचा आपके साथ साझा करूं।

Final Words: उम्मीद है, अपने सपनों को साकार करने के लिए आप कम से कम २१ दिन इस ध्यान kalpavriksha Meditation का अभ्यास करना पसंद करेंगे। देखा जाए तो यह कोई बड़ी बात नहीं है। सेब कुछ आपकी इच्छा और लगन पर निर्भर करता है।

किसी भी प्रकार की ध्यान विधि सीखने या जीवन संबंधी किसी विषय पर counselling के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: