Ganda Yoga in Hindi : गंदा योग क्या है तथा इसके 5 उपाय

Ganda Yoga in Hindi: जीवन सस्याओं से भरा हुआ है, वास्तव में देखा जाए तो यही समस्याएं मनुष्य को सबक सिखाती हैं एवं आगे बढ़ने में मदद भी करती हैं।

समस्याओं को सुलझाना मनुष्य के अपनी अपनी सोच समझ पर निर्भर करता है। एक समस्या में कोई इंसान टूटकर बिखर जाता है कोई उसे सुलझाकर निखर जाता है।

ऐसे में दोनों में ऐसा अलग है जो एक मजबूत किंतु दूसरा व्यक्ति कमज़ोर होता है? कई बार तो ऐसा भी देखने में आता है कि एक ही दिन जन्में दो जुड़वा बच्चे बिलकुल अलग प्रवृत्ति के होते हैं।

तो, ऐसा क्या अलग होता है समय में जिसकी वजह से एक ही समय, एक ही परिवार में जन्में दो बच्चे अलग हो जाते हैं। इसका सीधा उत्तर है, जन्म के समय ग्रहों की दशा।

आपने ज़रूर सुना होगा कि पूर्णिमा अथवा अमावस्या के समय कुछ लोग मानसिक रूप से बहुत उद्वलित अथवा शांत हो जाते हैं। ऐसे लोगों पर चंद्रमा की दशा का असर पड़ता है।

ठीक इसी प्रकार जन्म के समय गअन्य ग्रहों, जैसे कि बुध, शुक्र, मंगल आदि की दशा व्यक्ति के सम्पूर्ण जीवन को प्रभावित करते हैं।

कुंडली के योग व्यक्ति को उसके व्यक्तित्व एवं भविष्य का कुछ हिस्सा समय से पहले ही बता देते हैं।

यदि जन्म के समय ग्रहों की दशा अच्छी हो तो व्यक्ति सुखी एवं संपन्न जीवन तथा ग्रहों की दशा बुरी हो जो अत्यंत दुखभरा जीवन जीते हैं।

ग्रहों की दशानुसार की कुंडली में भिन्न भिन्न प्रकार के योग बनते हैं। कुछ योग अति शुभ तथा कुछ अतिगंदा योग बनते हैं जो जीवन को कठिन बना देते हैं।

MysticMind के इस आर्टिकल में हम आपके साथ कुंडली में बन रहे Ganda Yoga के बारे में विस्तार से बात करेंगे। Ganda Yog Astrology के साथ साथ प्रभावी एवं सरल Ganda Yoga Remedies भी साझा करेंगे।

सबसे पहले देखते हैं कि कुंडली में गंदा योग Ganda Yoga  क्या है तथा यह कैसे बनता है?

What is Ganda Yoga/ What is Ganda Yoga Astrology

ज्योतिष शास्त्र में गंदा योग Ganda Yoga  के नाम से जाने वाला योग अग्नि द्वारा शासित दसवां नित्य योग है। पुरुष योग के निचले क्रम के सात योगों में से एक योग है।

गंदा योग पर शनि ग्रह का शासन होता है जिसे अक्सर। बाधा अथवा रुकावट डालने वाले के रूप में माना जाता है।

इस प्रकार यदि देखा जाए तो Ganda Yoga Means कुंडली में ऐसे ग्रहों का योग जो जीवन में रूकावटें लाकर जीवन को मुश्किल बनाए रखते हैं।

Ganda Yoga in Astrology इस योग में जन्में जातक वैसे तो हृष्ट पुष्ट होते हैं फिर भी अपने सेहत को लेकर अत्यंत चिंतित रहते हैं। परिणामस्वरूप स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढें: दरिद्र योग कब बनता है तथा इसे कम करने के घरेलू एवं प्रभावी उपाय

Is Ganda Yoga Good?

गंदा योग Ganda Yoga  सामान्यतः अशुभ योग में गिना जाता है। इस योग में जन्में जातक स्पष्ट बोलने वाले के साथ बातूनी, अभिमानी, उम्मीद से ज्यादा सच्चा एवं दूसरों से अक्सर सहमत होने वाला होता है(ना चाहते हुए, अर्थात दूसरों को खुश रखने वाला)।

दुर्भाग्यवश ऐसा व्यक्ति अक्सर समस्याओं से घिरा हुआ होता है।

इसे भी पढें: Parigha Yoga परिघ योग क्या है तथा यह कैसे बनता है

Ganda Yoga Remedies 

समस्याओं के साथ उसका हल भी कहीं न कहीं छिपा ही रहता है। गंदा योग Ganda Yoga  में जन्में व्यक्ति इस बात की जानकारी होते ही कुछ छोटे एवं सरल व्यवहार परिवर्तन कर गंदा योग के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

१- Ganda Yoga Shanti के लिए शनिवार के दिन शनि मंदिर जाएं तथा सुबह स्नान आदि के बाद शनि मंत्र का जप करें।

२- सच कड़वा होता है इसलिए यदि आवश्यक ना हो ना बोलें। बड़बोले पान अथवा अपने बातूनी स्वभाव को बदलने के लिए सप्ताह में एक दिन संभव हो तो मौन का अभ्यास करें।

३- अपनी सेहत को लेकर अधिक चिंतित रहने के बजाय हरी सब्जियां, ताजे फल एवं अतिरिक्त विटामिन का सेवन करें। व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।

४- हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें आठ उन्हें सिंदूर चढ़ाकर आशीर्वाद लें।

५- बड़ों का सम्मान एवं छोटों को माफ़ कर विपरीत परिस्थितियों में शांत रहें। समय गुजरने के बाद आपको स्वयं आभास होगा कि आपका चुप रहना बिलकुल सही था।

नोट: ग्रहों का प्रभाव मन पर बिल्कुल उस तीव्रता से पड़ता है जैसे पूर्णिमा की रात चंद्रमा का प्रभाव समुद्र पर पड़ता है। जब आप सप्ताह में एक दिन मौन का अभ्यास करना शुरू करेंगे, आप इनके प्रभाव को कम करने में सक्षम हो जाएंगे।

ना सिर्फ सक्षम होंगे बल्कि आपको इस बात का भी आभास होना शुरू हो जाएगा कि कोई बात आपके विरोध में इसीलिए जा रही है ताकि आप कुछ गलत कदम उठाएं।

अतः उपरोक्त विधियों को अपनाकर गंदा योग Ganda Yoga के प्रभाव को कम और समस्याओं को हल किया जा सकता है।

FAQS

१- What is the Most Powerful Yoga in Astrology?

ज्योतिष शास्त्र में सबसे शक्तिशाली योग राजयोग को माना गया है। राजयोग कुंडली में तब बनता है जब लग्न का सबसे बलशाली स्वामी पांचवे घर में होता है।

२- What is Shiva Yoga in Astrology?

शिव योग एक दुर्लभ एवं दिव्य योग है। इस योग में जन्में जातक विशेष होते हैं साथ ही उन्हें कई विशेष लाभ भी मिलते हैं।

कुंडली में शिव योग तब बनता है जब नौवें घर का स्वामी दसवें तथा दसवें घर का स्वामी पांचवे घर में होता है।

इसे भी पढें: Vyatipata Yoga व्यतिपात योग क्या है तथा इसके उपाय

Final Words: कुंडली में गंदा योग Ganda Yoga  का होना मनुष्य के पूर्व जन्मों के कर्मों से प्रभावित होता है। अपने अंदर छोटे छोटे परिवर्तन लाकर इनके प्रभावों को कम कर सुखी जीवन बिताया का सकता है।

लेख अच्छा लगा हो तो दूसरों के साथ साझा कर उनका भी मार्ग दर्शन करें।

भवतु सब्बै मंगलम

Leave a Reply

%d bloggers like this: