कैनोला तेल के फायदे और नुकसान | Canola Oil in Hindi – MysticMInd

Canola Oil in Hindi | What is Canola Oil in Hindi | Canola Oil Benefits in Hindi | Canola Oil for Hair in Hindi |Canola Oil Meaning in Hindi

कैनोला का तेल आजकल अपने स्वास्थ्य संबंधी गुणों के कारण खूब चर्चा में है। ये हमारे शरीर को कई तरह की बीमारियों से बचाने में मददगार साबित हो सकता है।

खासकर हमारे दिल को स्वस्थ रखने में ये काफी अहम रोल निभा सकता है, क्योंकि इसमें मोनोसैचुरेटेड फैट ज्यादा होता है, जबकि सैचुरेटेड फैट कम होता है। दरअसल सैचुरेटेड फैट जो होता है, वो ब्लड के कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढ़ाने का काम करता है, जबकि पॉली और मोनोसैचुरेटेड फैट दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

Advertisement

इतना ही नहीं, इस तेल के और भी कई स्वास्थ्य लाभ हैं, जिसके बारे में हम इस लेख में जानेंगे। तो आइए जानते हैं गुणों से भरपूर कैनोला तेल के बारे में विस्तार से।

इस लेख में हम जानेंगे- 

  • कैनोला तेल क्या है?
  • कैनोला तेल के न्यूट्रिशन फैक्ट्स
  • कैनोला तेल के औषधीय गुण
  • कैनोला तेल के त्वचा और बालों के लिए कुछ आसान घरेलू नुस्खे
  • कैनोला तेल के संभावित साइड इफेक्ट्स
  • कैनोला तेल खरीदने से पहले ध्यान देने लायक कुछ टिप्स

सबसे पहले जानते हैं कि कैनोला का तेल आखिर है क्या और कैसा बनता है?

Advertisement

कैनोला तेल क्या है? | What is Canola Oil in Hindi

दरअसल कैनोला तेल का नाम कनाडा देश के नाम पर रखा गया है, क्योंकि कनाडा में ही इस तेल को सबसे पहले बनाया गया था। बायोटेक टेक्नोलॉजी के द्वारा रेपसीड में आनुवंशिक परिवर्तन करके कैनोला के पौधे को तैयार किया गया और तब से जेनेटिक टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके उसके न्यूट्रिशन तत्व को बढ़ाने की कोशिश की जा रही है।

कैनोला, रेपसीड और सरसों एक ही परिवार से हैं और यही कारण है कि देखने में कैनोला और रेपसीड का पौधा लगभग एक जैसा ही दिखता है। हालांकि गुण में कैनोला रेपसीड से ज्यादा हेल्दी माना जाता है, क्योंकि इसमें रेपसीड की तुलना में इरुसिक एसिड की मात्रा कम है।

डिपार्टमेंट ऑफ फूड साइंस और ह्यूमन न्यूट्रिशन, कनाडा के अनुसार जो लोग कैनोला का सेवन करते हैं उनका कोलेस्ट्रॉल लेवल कम रहता है, क्योंकि कैनोला में इरुसिक एसिड और ग्लूकोसिनोलेट की मात्रा अन्य तेल के मुकाबले कम है।

Advertisement

आइए जानते हैं कि कैनोला के तेल में कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं?

कैनोला तेल के कुछ न्यूट्रिशन फैक्ट्स | Nutrition in Canola Oil in Hindi

  • इरूसिक एसिड = 2%
  • टोटल फेट = 14g
  • अनसेचुरेड फेट = 12g
  • मोनो सैचुरेटेड फैटी एसिड = 8g
  • पॉलीसैचुरेटेड फैटी एसिड = 4g
  • सैचुरेटेड फैट = 2g

आइए विस्तार से जानते हैं कि कैनोला तेल के सेवन से कितने स्वास्थलाभ होते है?

Also Read: जैतून के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान

Advertisement

कैनोला तेल के गुणकारी फायदे | Health Benefits of Canola Oil in Hindi

कोलेस्ट्रॉल कम करने में – उम्र के साथ ही कोलेस्ट्रॉल की समस्या होना आम बात है। कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने का मतलब है ब्लड प्रेशर हाई होना और बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर सीधे हार्ट डिजीज को आमंत्रित करता है।

इसलिए कोशिश यही रहनी चाहिए कि कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने ही न दें। एक्सरसाइज, स्ट्रेस फ्री रहना और हेल्दी डाइट इसके लिए अपनाना जरूरी है और हेल्दी डाइट के लिए हेल्दी ऑयल का उपयोग सबसे ज्यादा जरूरी है।

अन्य तेल की तुलना में कैनोला तेल में कोलेस्ट्रॉल बहुत कम पाया जाता है – इसमें मौजूद वसा हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही एलडीएल के लेवल को भी मेंटेन करता है।

Advertisement

कैंसर के खतरे को कम करता है – जैसा कि रिसर्चर्स का कहना है कि आने वाले समय में जानलेवा बीमारियों से होने वाले मृत्यु में सबसे ज्यादा मृत्यु कैंसर से होंगी। ऐसे में पहले से ही सतर्क रहना और इस बीमारी के हर संभावना से सुरक्षित रहना जरूरी है।

कैनोला ऑयल कैंसर सेल में होने वाले मेटास्टेसिस को स्लो करता है और कैंसर को तेजी से दूसरे सेल्स मे फैलने से रोकता है। हालांकि ये किसी मेडिकल एसोसिएशन की तरफ से पूर्ण रूप से अभी प्रमाणित नहीं किया गया है।

Health Benefits of Canola Oil in Hindi

ब्लड शुगर लेवल को कम रखता है – आजकल लाइफस्टाइल डिजीज काफी तेजी से लोगों में बढ़ रही है। ऐसे में अपने शुगर लेवल को मेंटेन रखना और हेल्दी खान-पान को अपनाना अत्यधिक जरूरी हो गया है।

Advertisement

डायबिटीज से बचाव में कैनोला का तेल बहुत मददगार है, क्योंकि इसमें अन्य तेल के मुकाबले फैटी एसिड्स और सैचुरेटेड फैट्स कम है।

शरीर के सूजन में लाभदायक – कैनोला तेल में मौजूद विटामिन ई एंटी इन्फ्लेमेटरी एजेंट है, इसलिए इन्फ्लेमेशन को कम करके दर्द को कम करता है।

त्वचा के लिए फायदेमंद – कैनोला के तेल में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाने की वजह से ये एजिंग, रिंकल्स और चेहरे के दाग धब्बे को कम करता है। सूर्य के अल्ट्रावायलेट किरणों से होने वाले त्वचा के डैमेज को भी कम करता है।

Advertisement

बता दें कि किसी महंगे सीरम से कैनोला तेल कम गुणकारी नहीं है। त्वचा को हेल्दी रखने में भी कैनोला तेल का कोई जोड़ नहीं है। विटामिन ई हमारे त्वचा के सेल्स को हेल्थी रखने में काफी महत्वपूर्ण योगदान निभाता है। कैनोला के तेल में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में पाए जाने के कारण ये अच्छा और नेचुरल मॉइश्चराइजर है।

Hair Benefits of Canola Oil in Hindi

बालों के लिए अत्यंत लाभदायक – इसमें मौजूद वसा और विटामिन ई बालों को पोषण देता है, जड़ों को मजबूत बनाता है और बालों के कई तरह की समस्या जैसे डैंड्रफ, स्कैल्प में खुजली, स्प्लिट एंड से लड़ने में सहायक होता है। बालों के झरने से लेकर ये बालों को लंबा और घना बनाने में भी सहायक है।

कैनोला के तेल का स्मोक प्वाइंट काफी हाई है – स्मोक प्वाइंट हाई होने के कारण उच्च तापमान पर गर्म किए जाने पर भी इसमें मौजूद ओमेगा 3 नष्ट नहीं होता है। ओमेगा 3 हमारे शरीर के लिए जरूरी और काफी फायदेमंद है।

Advertisement

लो स्मोक प्वाइंट वाले तेल को उच्च तापमान पर गर्म करने पर उसमे मौजूद ओमेगा 3 तो नष्ट होता ही है, साथ ही अन्य पोषक तत्व भी नष्ट हो जाते हैं। इसलिए डीप फ्राई करके बनाए जाने वाले व्यंजन के लिए कैनोला तेल बेहतर है।

कैनोला के तेल को अन्य कई घरेलू नुस्खे के रुप में भी इस्तेमाल किया जाता है। आइए जानते हैं कि इसके क्या प्राकृतिक एवं घरेलू प्रयोग किए जा सकते हैं?

कैनोला के तेल के कुछ घरेलू नुस्खे | Uses Of Canola Oil in Hindi

  • अपने हेयर मास्क में कैनोला तेल की कुछ बूंदों को मिलाएं। इससे बालों की चमक तो बढ़ेगी ही बाल स्वस्थ भी रहेंगे।
  • कैनोला के तेल को हल्का गर्म करके स्कैल्प पर लगा कर मसाज करें, फिर कुछ देर छोड़कर माइल्ड शैम्पू से धो लें। बालों के लिए ये बहुत अच्छा मॉइस्चराइजर का काम करता है।
  • कैनोला के तेल में शहद मिलाकर लगाने से बालों में ज्यादा मॉइश्चर की समस्या कम होती है।
  • कैनोला और ऑलिव ऑयल को मिलाकर लगाने से बाल घने होते हैं और स्कैल्प के खुजली की समस्या भी कम होती है।
  • कैनोला तेल को बादाम के तेल में मिलाकर लगाने से बाल तेजी से लंबे तो होते ही हैं, साथ ही बालों का झड़ना भी कम होता है।
  • अपने रेगुलर फेस मास्क में कुछ बूंद कैनोला तेल मिलाकर लगाएं। त्वचा पहले से ज्यादा खिल उठेंगी।
  • कैनोला तेल की कुछ बूंदे हथेलियों पर लें और इससे हल्के हाथों से चेहरे पर मसाज करें और फिर चेहरे को किसी माइल्ड फेस वॉश से धो लें। त्वचा मॉइस्चराइज और हेल्दी रहेगा।

Scientific Facts About Canola Oil in Hindi

आपको जानकर हैरानी होगी कि, हृदय रोग के मामले में हम भारतीय पूरी दुनिया में तीसरे स्थान पर हैं, जिससे मौत के आंकड़े काफी हैरान करने वाले हैं। लाइफस्टाइल से लेकर हमारे खाने के तेल का भी इसमें बड़ा योगदान होता है।

Advertisement

आजकल बाजार में वर्जिन ऑयल, एक्स्ट्रा वर्जिन ऑयल और कोल्ड प्रेस्ड जैसे कई ऑयल मौजूद हैं, जो हेल्दी हार्ट और लो कोलेस्ट्रोल का दावा करते हैं, जबकि कई न्यूट्रिशनिस्ट और हेल्थ स्पेशलिस्ट का ये मानना है कि जो तेल आप और आपके पूर्वज वर्षों से इस्तेमाल करते आ रहे हैं वही आपके लिए सही है, क्योंकि हमारे डीएनए में वो रच बस गया है और हमारी तंत्रिका तंत्र उसके साथ ढल चुकी है।

इसलिए शुद्ध सरसों का तेल, नारियल का तेल और घी को हमारे स्वास्थ्य के लिए सबसे ज्यादा सही माना जाता है। कैनोला तेल न्यूट्रिशन के मामले में लगभग ऑलिव ऑयल के जैसा ही है पर कैनोला तेल में अनसैचुरेटेड फैट ज्यादा है और फैटी एसिड्स कम है, जो कि इसे हेल्दी ऑयल की कैटेगरी में ऊपर लाता है।

वैसे इस बात की आवश्यकता सबसे ज्यादा है कि हम सारे तथ्यों को ध्यान में रखकर ही अपने लिए सही तेल का चुनाव करें।

Advertisement

अन्य खाद्य पदार्थों की भांति कनोला के तेल का सही उपयोग न होने अर्थात् अति होने पर इसके कुछ नुकसान हो सकते हैं। आइए जानते हैं कि कैनोला तेल के क्या नुकसान अर्थात् साइड इफेक्ट हैं?

कैनोला तेल के साइड इफेक्ट्स | Side Effects of Canola Oil in Hindi

कैनोला तेल का अत्याधिक इस्तेमाल दिल के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इतना ही नहीं इसका ज्यादा इस्तेमाल प्लाज्मा लिपिड को भी बढ़ा देता है, जो कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इसलिए जरूरत से ज्यादा इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

  • अनसैचुरेटेड फैटी एसिड्स और टोटल फैट्स कम होने के बावजूद इसमें मौजूद सैचुरेटेड फैट वजन में वृद्धि करने का काम कर सकता है।
  • दिमाग और न्यूरॉन्स से संबंधित समस्याएं उत्पन्न कर सकता है।
  • भूलने की बीमारी, स्लो थिंकिंग और हमारी रीजनिंग की एबिलिटी को भी कम कर सकता है।
  • बढ़ते हुए बच्चों के शारीरिक विकास में कई तरह के फैट्स और वसा बाधा उत्पन्न करती है और ये देखा गया है कि कैनोला तेल का अधिक इस्तेमाल शरीर के ग्रोथ को स्लो करता है।
  • जानी निक परिवर्तन से बना होने पर टॉक्सिक पदार्थ का मौजूद होना संभव है। लैब में बनाए जाने के दौरान कई तरह के केमिकल्स इस्तेमाल किए जाते हैं और कई तरह के रिएक्शंस करवाए जाते हैं, जिसकी वजह से अनेकों हानिकारक टॉक्सिन मौजूद हो सकते हैं।

Also Read:  मसूर दाल खाने के फ़ायदे एवं नुकसान

Advertisement

ध्यान देने योग्य कुछ बातें Canola Oil in Hindi

  • जब भी आप केनोला तेल खरीदें लेवल जरूर देखें की ऑर्गेनिक है कि नहीं। ऑर्गेनिक न होने पर टॉक्सिंस की मात्रा हो सकती है, जो कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होगा।
  • ध्यान रखें कि ये कोल्ड प्रोसेस्ड हो, क्योंकी अगर उच्च तापमान पर प्रोसेस किया गया होगा तो उसमें मौजूद ओमेगा 3 का गुण नहीं के बराबर होगा।
  • हमेशा देखें की हेक्सेन का इस्तेमाल न हुआ हो। क्योंकि हेक्सेन की मौजूदगी काफी सारे साइड इफेक्ट्स जैसे आंख नाक में खुजली, स्किन एलर्जी आदि कर सकती है।
  • सबसे जरूरी बात अगर कैनोला तेल इस्तेमाल करने के बाद आपको किसी तरह की एलर्जी या स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो रही है तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से सुझाव लें।

Final Words: उम्मीद है Canola Oil in Hindi कनोला के तेल संबंधी जानकारी आपकी सभी उत्कंठाओं को पूर्ण करने में सफल होगी। सही मात्रा एवं सही तरीके से प्रयोग करने से इसके अनेकों स्वास्थ्य लाभ हैं।

इस लेख को पढ़कर दूसरे भी इसका लाभ लें, इसलिए इसे दूसरों के साथ भी साझा कर उनका मार्गदर्शन करें।

यदि आप भविष्य में Canola Oil in Hindi और भी जानकारी भरे लेख पढ़ना चाहते हैं तो इस पेज को अवश्य बुकमार्क कर लें।

Advertisement

सबका मंगल हो

Leave a Reply

%d bloggers like this: